general knowledge

लाल किले का इतिहास एवं संरचना – Red Fort History and Architecture in Hindi

Red-Fort-History-and-Architecture-in-Hindi
Red Fort History In Hindi

Red Fort History In Hindi : भारत में बहुत सी सुप्रसिद्ध इमारतें हैं, जो अत्यधिक पुरानी होने के बाद भी अत्यधिक खूबसूरत और अद्भुत है। जिन सुप्रसिद्ध और खूबसूरत इमारतों को देखने लोग दूर दूर से देश विदेश से आते हैं, और जिसके इतिहास के बारे में जानने के लिए हर कोई उत्सुक रहता है, उन्हीं पर्यटन स्थलों में से एक सुप्रसिद्ध इमारत है, लाल किला , जो भारत की राजधानी दिल्ली में स्थित है। आज हम आपको उसी लाल किले के इतिहास से रुबरु कराएंगे।

Red-Fort-History-and-Architecture-in-Hindi

Red Fort History In Hindi


दिल्ली के लाल किले का इतिहास:

लाल किला 1857 तक तकरीबन 200 सालों तक मुगल साम्राज्य का निवास स्थान था। लाल किला दिल्ली में स्थित है। मुगल शासन काल में लाल किला मुख्य किले के रुप में था, ब्रिटिशों के लगभग सभी कार्यक्रम लाल किले में ही सम्पन्न होते थे।

लाल किले को शाहजहां ने बनवाया था। शाहजहां ने 1638 में जब अपनी राजधानी आगरा से दिल्ली स्थानांतरण करने का निर्णय लिया तभी उन्होंने लाल किले का निर्माण करवाया। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि लाल किले में मुगलों ने लगभग 200 वर्षों तक निवास किया। मुगल साम्राज्य ने मुस्लिम परम्पराओं के प्रतिमानों के अनुसार ही लाल किले का निर्माण किया और बिल्कुल उनकी इच्छा के अनुसार ही इस किले को बनाया गया था।

लाल किले का निर्माण होने पर शाहजहां के गृह प्रवेश के लिए लाल किले को दुल्हन की भांति सजाया गया। जिसमें सजावट के लिए छोटी से छोटी बातों का ख़्याल रखा गया। दीवान-ए-खास में विशेष रूप से दरबार सजाया गया था। छतों और दीवारों पर नायाब नक्काशी की गई, और झूमर व फूलों की शोभा के साथ महल की साज सज्जा की गई।

लाल किले की यह भव्य साज सज्जा हर किसी को मन्त्रमुग्ध कर देने वाली थी। लाल किले को प्राचीन समय में किला-ए-मुबारक भी कहा जाता था। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि लाल किला यमुना नदी के पास ही बना हुआ है, और इस वजह से लाल किले की दीवारें और भी लुभावनी प्रतीत होती हैं। लाल किला दिल्ली में होने की वजह से दिल्ली को पहले शाहजहानाबाद कहा जाता था। शाहजहां के शासन काल में लाल किले को उनके शासनकाल का रचनात्मक प्रतीक माना जाता था।

शाहजहां के बाद उनके उत्तराधिकारी औरंगजेब ने कृत्रिम मोतियों से बनी हुई मस्जिद का निर्माण करवाया था, और साथ ही प्रवेश द्वार को और भी मनमोहक बनाने के लिए बहुत से बदलाव किए। मुगल साम्राज्यों द्वारा किए गए किलों के निर्माण का औरंगजेब ने काफी पतन किया। औरंगजेब के द्वारा 18वीं शताब्दी में मुगल शासनकाल में बनी धरोहरों और महलों को क्षति पहुंचाई गई।

1712 में जब चंद्रशाह ने लाल किले पर अपना आधिपत्य जमा लिया तब करीब 30 वर्षों तक लाल किला बिना किसी शासक के था। इसके पश्चात शासनकाल लागू होने के करीब 1 वर्ष पूर्व शाहजहां की हत्या कर दी गई और उनका स्थान फर्रूखि्सयर ने ले लिया था। 1719 में लाल किले को मोहम्मद शाह ने अपनी कलाकृतियों से सजाया था। जिसके बाद 1761 में जब मराठा पानीपत के तीसरे युद्ध में पराजित हुए और अहमद शाह दुर्गानी ने किले पर आधिपत्य स्थापित कर लिया। 10 वर्षों पश्चात आलम शाह ने मराठाओं की सहायता से दिल्ली के तख्त को पुनः हासिल कर लिया। 1803 में एंग्लो मराठा युद्ध के दौरान ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कम्पनी ने मराठा सेना को पराजित कर दिया और लाल किला ईस्ट इंडिया कम्पनी के हाथों में चला गया जिसके बाद अंग्रेजों ने लाल किले को अपना निवास स्थान घोषित कर दिया।

1857 की क्रांति के दौरान मुगल शासक बहादुर शाह द्वितीय ने किले को फिर से हासिल कर लिया लेकिन 1857 के समय में ही अंग्रेजों ने लाल किले को पुनः हड़प लिया। 1858 में बहादुर शाह को रंगून भेज दिया गया।

किले पर आधिपत्य के पश्चात महल की दीवारें ही मात्र ब्रिटिशों के अत्याचार से बची रहीं बाकी सभी चीजों को ब्रिटिशों ने नष्ट कर दिया।

1899 में कर्जन का राज्य शुरू हुआ और उसनें किले की मरम्मत करने का आदेश दिया, और लाल किले को अंग्रेजों ने अपनी धरोहर बना लिया।

आजादी के लिए संघर्ष कर रहे भारत के स्वतंत्रता सेनानियों को कई बार ब्रिटिश सरकार ने लाल किले में बनाई गई जेल में रखा लेकिन स्वतंत्रता सेनानियों के कठिन परिश्रम के बाद 1947 में भारत स्वतंत्र हुआ और उस शुभ दिन पर भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु जी ने लाल किले के लाहौर द्वार पर प्रथम बार अपने देश का तिरंगा फहराया।

वही परम्परा आज तक चली आ रही है। लाल किला हमारे भारत देश का वो कोहिनूर हीरा है, जिसे देखने के लिए लोग देश विदेश से आते हैं। हम सभी भारतीयों को गर्व है कि भारत देश के पास अमूल्य लाल किला है।

लाल किले की संरचना:

  1. लाल किले का निर्माण कार्य 13 मई 1638 को शुरू हुआ था, और के नियंत्रण और शासनकाल में इसका निर्माण कार्य 1648 में पूरा हुआ।
  2. इसे बनवाने के लिए शाहजहां ने बड़े बड़े संरचनाकारों को बुलाया और अन्त में उस्ताद अहमद लाहौरी को लाल किले को बनवाने के लिए चुना गया। यह वही उस्ताद थे जिन्होंने आगरा की शान ताजमहल को भी बनाया था।
  3. लाल किला असलियत में सफेद है। ऑर्कियोलॉजिकल भारतीय सर्वे के अनुसार लाल किले के कुछ भाग सफेद पत्थरों से बने हुए थे। लेकिन जब सफेद पत्थर खराब होने लगे तो ब्रिटिशों ने इन्हें लाल रंग दिया।

लाल किले के दो प्रवेश द्वार हैं- दिल्ली द्वार और लाहौर द्वार ।

किले में एक पानी का द्वार भी है ,जो कि पानी का निकास द्वार है और यमुना नदी के तट पर खुलता है।
लाल किला अष्टकोणीय आकार में बना हुआ है।

लाल किले का इतिहास एवं संरचना – Red Fort History and Architecture in Hindi, Red Fort (Lal Qila) Delhi – History, facts, information Architecture, Timings

Red Fort Images :

red-fort-delhi-images

red-fort-delhi-history